किसने कहा था? मनकही

किसी भी परिवार, समाज और राष्ट्र का कल्याण कर्मण्य मनुष्यों के द्वारा ही हो सकता है। इनके कार्य ही आने वाली पीढ़ियों के लिए आदर्श बन कर्मवीर बनने का आदर्श स्थापित करते हैं। अतः प्रत्येक इंसान को कर्मशील रहना चाहिए। महाभारत में श्री कृष्ण ने कहा है ‘कर्मण्येवाधिकारस्ते।’

Read more

साक्षरता कार्यक्रम का महत्व एवं विकास

साक्षरता शब्द साक्षर से बना है जिसका अर्थ है अक्षर पहचानने, क ,ख, ग और मात्राओं को समझने लिखने-पढ़ने में

Read more

मानव जीवन यात्रा में भाग्य और कर्म की भूमिका : मनकही

भाग्य और कर्म  के विषय सदैव यही कहा जाता है कि भाग्य के लेख को मिटाया नही जा सकता। जो

Read more

सुगन्ध का जीवन में महत्व एवं प्रभाव : मनकही

माटी की महक, फ़ूलों की सुगंध से लेकर रोटी की सौंधी खुश्बू का जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है। सम्पूर्ण प्रकृति

Read more

अपने मरे ही स्वर्ग दर्शन : मनकही

मन पछितहिएँ अवसर बीते अर्थात समय रहते कुछ नहीं किया दूसरे के भरोसे बैठे रहे और आज पछताने के सिवाय कुछ नहीं मिला। तभी तो कबीर दास जी ने कहा है–

Read more

जीवन और सुख-दुःख का आधार मन : मनकही

मन चंचल होता है, मन की गति अत्यधिक तीव्र होती है। जीवन में सुख-दुःख क्या है? मन के भाव ही

Read more