जीवन और सुख-दुःख का आधार मन : मनकही

मन चंचल होता है, मन की गति अत्यधिक तीव्र होती है। जीवन में सुख-दुःख क्या है? मन के भाव ही

Read more

सकारात्मकता ही जीवन का मूल मंत्र : मनकही

भौतिक सुख-सुविधाएं मनुष्य को तभी ख़ुशी देती हैं जब तन-मन स्वस्थ्य और जीवन सुरक्षित हो, परन्तु परिस्थितियां प्रतिकूल और प्राण

Read more

हंसा चल रे अपने देश : मनकही

मनुष्य जैसे यात्रा से पूर्व सारी चीजों को समेटना प्रारंभ कर देता है। वैसे ही जीवन यात्रा समाप्त होने से पूर्व जीवन मे जो मान-सम्मान, पद, प्रतिष्ठा, ईमानदारी, सभी कुछ सहेजने का  समय आ जाता है। मन में एक साध रहती है  किसी के साथ अन्याय न हो। ईमानदारी से जितना बन पड़े उतना काम तो कर लें क्योंकि दो दिन का जग मेला, अब चला चली का बेरा। मनुष्य अच्छे कर्म के द्वारा ही आने वाली पीढ़ियों के समक्ष अनुकरणीय आदर्श प्रस्तुत कर सदैव याद किया जाता है।

Read more

दृढ संकल्प और आत्मनियंत्रण द्वारा कोरोना से बचाव : मनकही

वैश्विक महामारी  कोरोना से जहां विश्व जूझ रहा है वहीं इसका सामना करने का सबसे महत्वपूर्ण उपाय सोशल डिस्टेंसी को

Read more

जहाँ सुमति तहँ संपति नाना : मनकही

आज पूरा विश्व कोरोना (covid 19) नामक भयानक वायरस की चपेट में आ गया है जिससे चारों ओर भय, बीमारी

Read more

संयमित जीवन एवं कार्य शैली ही श्रेयकर

किसी भी व्यक्ति ,समाज, राष्ट्र का कल्याण व्यवस्थित कार्य शैली को अपनाकर ही हो सकता है। सुव्यवस्था ही प्रगति का मार्ग प्रशस्त करती है। वेद-पुराण व शास्त्रों में जीवन को सुखी करने के लिए निरोगी काया के साथ संयमित आहार-विहार प्रमुखता दी गई है।

Read more