वनवासियों के मसीहा क्रान्तिकारी अल्लूरी सीताराम राजू का बलिदान

अन्य साथियों के नाम पूछे गये । कठोर यातना सहकर भी उन्होंने किसी का नाम न बताया । अंततः उस महान क्रांतिकारी को नदी किनारे ही एक वृक्ष से बांधकर भून दिया गया । इस बलिदान के साक्ष्य थे गोदावरी नदी और नल्लईमल्लई की पहा़डयां हैं ।

Read more