रतियावन की चेली पार्वती आइना दिखाती है समाज को : अनुराग चतुर्वेदी

एक मासुम बच्चे से शुरू हुई यह संघर्ष यात्रा दारूण कथा बन गई मात्र विधाता द्वारा रचित एक अनगढ़ कृति बनने पर, जिस पर की किसी का सर्वथा कोई वश नहीं।

Read more

कहानी का किन्नर समाज के प्रति बहुत ही सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा : मुकेश पाण्डेय “चंदन”

रतियावन की चेली अपनी तमाम मुश्किलों और परेशानियों के बावजूद समाज के लोगों के लिए हर समय अच्छा ही सोचती है उसके मन से सदा उनके लिए दुआएं और आशीर्वाद ही निकलता है

Read more

“रतियावन की चेली” कहानी समूचे समाज को झिंझोड‌कर रख देती है : डॉ मीनाक्षी स्वामी

वह समझ नहीं पाती है कि मोहल्ले की महिलाएं विभिन्न अवसरों पर उसे नए कपड़े, चूड़ी पाटला आदि क्यों देती हैं। रतियावन नाम की किन्नर उसकी वास्तविकता से अवगत कराती है।

Read more

बस्तर की माटी से जुड़ा कवि: डॉ राजाराम त्रिपाठी

भाषा की अन्य विधाओं की तरह कविता भी जगत को समझने का एक शक्तिशाली उपक्रम हैं, गद्य की अपेक्षा काव्य

Read more

सफ़र एक डोंगी में डगमग – लेखक – डॉ राकेश तिवारी

पुस्तक टिप्पणी : घुमक्कड़ मनुष्य की शारीरिक मानसिक एवं अध्यात्मिक क्षमता की कोई सीमा नहीं। ये तीनों अदम्य इच्छा से

Read more

सामाजिक चेतना की आंच का प्रज्जवलन: भूभल

सुस्थापित रचनाकार मीनाक्षी स्वामी का उपन्यास ‘भूभल’ हाल ही में मुझे पढ़ने को मिला। यह बलात्कार के कानूनी पहलू पर

Read more