हाथी राजा बहुत बड़े, बाल कविता

हाथी राजा बहुत बड़े,

सूंड उठा कर कहाँ चले

मेरे घर तो आओ ना,

हलवा पूरी खाओ न

आओ बैठो कुर्सी पर,

कुर्सी बोली चर चर चर

पद्म सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.