बस्तर के द्वार पर स्थित एक ऐसा प्राकृतिक स्थल जहाँ आप जाना चाहेंगे

जब हम घाट चढ़कर ऊपर पहुंचते हैं तो तेलीन सत्ती का मंदिर है, इसके ऊपर वाले चक्कर पर एक रेस्ट हाऊस। इस सरकारी रेस्ट हाऊस से घाटी का सुंदर नजारा दिखाई देता है

Read more

छत्तीसगढ़ के मानसून के सम्मोहन से बच न सके कालीदास और रच डाला मेघदूत

इंतजार किस बात का? अपना बैकपैक बांधिए और निकल पड़िए छत्तीसगढ़ के मानसून भ्रमण के लिए। मानसून भ्रमण के लिए अभी यह उपयुक्त मौसम है। हो सकता है पावस गीत सुनाने के लिए आपका कोई इंतजार रहा हो।

Read more

एडवेंचर के शौकीन है तो एक्सप्लोर कीजिए छत्तीसगढ़ में गुफ़ाएं

वनवासी कहते हैं कि त्यौहारों के अवसरों पर इस गुफ़ा से मुहरी, चांग, डफ़ड़ा आदि प्राचीन वाद्ययंत्रों की ध्वनियाँ सुनाई देती हैं। आज तक यह रहस्य बना हुआ कि प्राचीन काल में बजाए जाने वाले इन वाद्यों का वादन त्यौहारों के अवसर कौन करता है?

Read more

ट्रेकिंग-हाईकिंग, प्राचीन इतिहास एवं वन्य रोमांच का आनंद लेना है तो चलिए सिंघाधुरवा

हम आपको ऐसे स्थान पर ले चलते हैं जहाँ नदी, नाले, पहाड़, झरने जैव विविधता, पशु पक्षी, हरियाली एवं इतिहास तथा ग्रामीण संस्कृति से जुड़े किस्से कहानी आदि सारी चीजें मिलेंगी।

Read more

भूल गए क्या सांप नेवले की लड़ाई, देखिए प्राचीन मंदिर के भित्ति चित्रों में

सांप और नेवले की कहानी महाभारत से लेकर हितोपदेश तक उपलब्ध होती है। सांप एवं नेवले की लड़ाई किसी जमाने में जन मनोरंजन एवं कौतुक का विशेष साधन था। बचपन में सांप एवं नेवले की लड़ाई खूब देखी।

Read more

चिंगरापगार की वादियों में गुंजती कचना घुरुवा की अमर प्रेम कहानी

शस्य श्यामला भूमि छत्तीसगढ़ को प्रकृति ने अपने हाथों से संवारा है एवं इसे अकूत प्राकृतिक खजाना सौंपा है। इसके चप्पे चप्पे में प्राकृतिक सौंदर्य बिखरा है तो साथ ही सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक लोक गाथाएं भी बिखरी पड़ी हैं।

Read more