Category archives for: सम्पादकीय

छत्तीसगढ के लाल रेशम लाल

छत्तीसगढ के वरिष्ठ नेता और देश की पहली लोकसभा के सांसद रह चुके स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रेशम लाल जांगडे जी ने जीवन में धन कमाने को अपना उद्देश्य कभी नही माना अपितु अपने जीवन को समाज के लिए समर्पित कर दिया। अपने जीवन में यश ,मान-सम्मान ही कमाया। समाज में फैले छुआ-छूत, ऊंच-नीच विसंगतियों से […]

दवा की खुराक ऐसी न हो कि मरीज ही मर जाए

रेल का किराया एकाएक बढा दिया गया, जिससे आम यात्री की जेब पर अचानक बोझ बढ़ गया। मंहगाई वैसे ही कमर तोड़ रही है। अच्छे दिनों की आशा ने मोदी सरकार को आशा से अधिक सीटें देकर संसद में बहुमत प्रदान किया और दिल्ली में सरकार बनवा दी। सरकार बनने के एक महीने के भीतर […]

बंधुआ मजदूरों की कौन हरेगा पीर

बिकास कुमार शर्मा  जांजगीर-चांपा/रायगढ़/रायपुर – सुरेश कुमार और उसका 10 सदस्यों वाला परिवार पिछले साढ़े तीन महीनों से चावल और चटनी खाकर गुजारा कर रहा है। जांजगीर-चांपा जिले के तुषार गांव के रहनेवाले 30 वर्षीय कुमार की इतनी हैसियत नहीं है कि वह सब्जी खरीद सके या अपने फूस के घर की मरम्मत करा सके, जिसमें […]

जन दर्शन में मुख्यमंत्री ने दी कई सौगातें

रायपुर, 31 जनवरी 2013/ भू-जल स्तर में गिरावट की वजह से बीस हैण्डपम्पों के बावजूद छत्तीसगढ़ के एक गांव के लोगों को गंभीर पेयजल समस्या का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन निकटवर्ती एक प्राकृतिक झील से मोटर पम्प के जरिये पानी की आपूर्ति शुरू होने पर उनकी यह समस्या दूर हो सकती है। मुख्यमंत्री […]

हमारी मानसिकता और अनशन की प्रासंगिकता

भारत माता की जय !! वन्दे मातरम !!! ज़िंदाबाद – मुर्दाबाद !!! आदि नारे किसी भी जुलूस या प्रदर्शन का हिस्सा  होते हैं . आजकल देखता हूँ कि यह नारे आम हो गए हैं . हर गली मोहल्ले में इनकी गूंज सुनाई  देती है . जब हम कोई विरोध या प्रदर्शन करते हैं तो, हम […]

कांग्रेस और उसका इतिहास – डॉ.चंद्रकांत

कांग्रेस अधिवेशन में और उनके द्वारा जारी किये गये बयान और पुस्तक से जो बाते सामने आ रही हैं,उससे ऐसा लगता है देश की जनता से ज्यादा कांग्रेसी ही दिग्भ्रमित हैं.क्या कारण है आज के समय अपने जनक के अस्तित्व को नकारने की नौबत आ गई है.शायद ही उस समय का कोई कांग्रेसी बचा होगा. […]

Photo Gallery

Log in | Designed by R.S.Shekhawat