वार्षिक राशिफ़ल – मेष

  1. 22 दिसंबर 2011 से शुरू हुए कुछ कार्यक्रम 20 जनवरी तक किसी न किसी रूप में बने रहेंगे , इस समय   भाग्य , भगवान , धर्म . ये यब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा!   कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, , बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से  तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।
  2. 20 जनवरी से 8 फरवरी तक कुछ कार्यक्रमों में ध्यान संकेन्द्रण बनेगा , जिसके कारण किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्‍ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। काफी महत्वपूर्ण लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी।
  3. 22 जनवरी से 8 सितंबर के मध्य कुछ मामले बहुत ही सुखद दिखाई देंगे , जिसके कारण भाग्य के साथ देने से काम बनेंगे यानि किसी परिणाम में संयोग की बडी भूमिका रहेगी, धार्मिक कार्यक्रमों में भी सुखदायक उपस्थिति बनेगी।  मनोनुकूल खर्च का वातावरण तैयार होगा, किसी बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से लाभ हो सकता है।
  4. दो महीने तक किए गए मेहनत के बावजूद कुछ पक्ष 24 जनवरी से 14 अप्रैल तक खासकर मार्च के पहले सप्ताह में बहुत कमजोर दिखाई देंगे , इस समय स्वास्थ्य काफी गडबड रहेगा,आत्मविश्वास की कमी बनेगी, व्यक्तित्व कमजोर दिखाई देगा। रूटीन काफी अस्त व्यस्त रहेगा और किसी घटना का प्रभाव जीवनशैली पर बुरे ढंग से पडेगा।
  5. जनवरी से मार्च तक कुछ पक्षों के सामान्य रहने के बाद 5 मार्च से 19 अप्रैल तक इनको मजबूत बनाने के लिए काफी मेहनत की जाएगी , पर बीच में कुछ बाधाएं दिख सकती हैं , इसके कारण   भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।
  6. 14 अप्रैल तक कमजोर पडे कुछ कार्यक्रम रफ़तार पकडेंगे , 9 जून तक   स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा। रूटीन काफी सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा।
  7. 8 मार्च से 26 जून तक खासकर मार्च के मध्य में कुछ अन्य मुद़दे भी कमजोर दिखाई देंगे , जिसके कारण   पिता पक्ष काफी कमजोर बना रहेगा , कर्मक्षेत्र में भी परेशानी रहेगी। प्रतिष्‍ठा पर आंच आ सकती है  लाभ के कमजोर रहने से तनाव बनेगा। लक्ष्य की ओर बढने में बाधा उपस्थित होगी।
  8. 25 मार्च से 15 मई के मध्य कुछ मुद़दों पर खास ध्यान बनेगा , धन की स्थिति मजबूत होगी , इसे मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  ससुराल पक्ष का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।
  9. 16 अप्रैल से लेकर 26 जून तक एक खास ग्रह के अच्छे प्रभाव से  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्‍ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है  काफी महत्वपूर्ण लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी।
  10. 15 मई से 26 जून तक खासकर 6 जून के आसपास कुछ समस्याओं के कारण कार्यक्रम में कुछ बाधाएं दिख सकती हैं  धन की स्थिति कमजोर दिखाई देगी, इसे मजबूत बनाने का हर प्रयास बेकार होगा। घर गृहस्थी का वातावरण अच्छा नहीं दिखाई देगा, ससुराल पक्ष का तनाव उपस्थित हो सकता है। प्रेम संबंध में भी कुछ दूरी बनेगी।
  11. 19 अप्रैल से 30 जून तक ग्रहों के अच्छे प्रभाव से आपके कार्यक्रमों में भाई.बहन , बंधु बांधवों के मामलों में सुखद अहसास बनेगा। सहकर्मियों से सहयोग मिलेगा।  झंझट उपस्थित हो सकते हैं , पर प्रभाव की मजबूत स्थिति से उन्हें दूर किया जा सकेगा। इसलिए अधिक तनाव नहीं होगा।
  12. 28 जून से 21 अगस्त तक भी एक खास ग्रह के अच्छे प्रभाव से धन की स्थिति मजबूत होगी , इसे मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  ससुराल पक्ष का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।
  13. 30 जून से 8 अगस्त तक की ग्रह स्थिति के कारण  भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।
  14. 15 जुलाई से 8 अगस्त , खासकर 28 जुलाई के आसपास ग्रहों की कमजोर स्थिति से संबंधित कार्यक्रम में कुछ बाधा उपस्थिति दिखाई दे सकती है!  भाई.बहन,बंधु बांधवों से विचार के तालमेल का अभाव बनेगा, सहकर्मियों से भी संबंध में गडबडी आएगी।  कुछ झंझट उपस्थित होंगे , पर झंझटों को सुलझाने में प्रभाव की कमजोर स्थिति के कारण दिक्कत आएगी।
  15. 16 जुलाई से लगभग वर्ष के अंत तक सामान्य तौर पर सामाजिक कार्यक्रम या अन्य स्थान पर सुखद अहसास बनेगा! पिता पक्ष का सुखद अनुभव प्राप्त होगा, कर्मक्षेत्र का माहौल भी मनोनुकूल होगा।  अनायास लाभ प्राप्ति की संभावना बन सकती है। पर लक्ष्य को लेकर काफी गंभीर नहीं रहेंगे।
  16. 17 अगस्त से 27 अक्तूबर तक ग्रहों की स्थिति के पक्ष में रहने से आपके कार्यक्रमों में भाई.बहन , बंधु बांधवों के मामलों में सुखद अहसास बनेगा। सहकर्मियों से सहयोग मिलेगा।  झंझट उपस्थित हो सकते हैं , पर प्रभाव की मजबूत स्थिति से उन्हें दूर किया जा सकेगा। इसलिए अधिक तनाव नहीं होगा।
  17. 8 मार्च से 26 जून तक खासकर मार्च के मध्य में कुछ अन्य मुद़दे भी कमजोर दिखाई देंगे , जिसके कारण   स्वास्थ्य काफी गडबड रहेगा,आत्मविश्वास की कमी बनेगी, व्यक्तित्व कमजोर दिखाई देगा।  बेवजह के उपस्थित खर्चों से परेशानी होगी, बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तकलीफ होगा।
  18. 27 अक्तूबर से 5 दिसंबर तक इन संदर्भों में पूरा ध्यान संकेन्द्रण बना रहेगा , इस समय पिता पक्ष काफी कमजोर बना रहेगा , कर्मक्षेत्र में भी परेशानी रहेगी। प्रतिष्‍ठा पर आंच आ सकती है  लाभ के कमजोर रहने से तनाव बनेगा। लक्ष्य की ओर बढने में बाधा उपस्थित होगी।
  19. 7 नवंबर से 27 नवंबर के मध्य , खासकर 17 नवंबर के आसपास भाई.बहन,बंधु बांधवों से विचार के तालमेल का अभाव बनेगा, सहकर्मियों से भी संबंध में गडबडी आएगी।  कुछ झंझट उपस्थित होंगे , पर झंझटों को सुलझाने में प्रभाव की कमजोर स्थिति के कारण दिक्कत आएगी।
  20. पर 4 दिसंबर से वर्ष के अंत तक बढते क्रम में इनसे संबंधित समस्याएं दिखाई देती रहेंगी! संयोग के न बन पाने से कोई असफलता दिखाई पड सकती है। किसी धार्मिक क्रियाकलापों के बाद भी निराशा ही बनेगी।  बेवजह के उपस्थित खर्चों से परेशानी होगी, बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तकलीफ होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.