मुख्यमंत्री ने किया अपने कार्यालय की आधिकारिक वेबसाईट का लोकार्पण

रायपुर, 07 सितम्बर 2014/ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि सूचना, संचार और अभिव्यक्ति के लिए हमें आधुनिक युग में बदलते दौर की बदलती तकनीकों का भी इस्तेमाल करना चाहिए। वेबसाईट, ब्लॉग, यू-टयूब, फेसबुक  टिवटर और वाट्सअप जैसे सोशल मीडिया के नये माध्यमों का इस्तेमाल कर सरकार भी अपनी योजनाओं को अधिक से अधिक संख्या में जनता तक पहुंचा सकती है। मुख्यमंत्री ने आज दोपहर राजधानी रायपुर में अपने कार्यालय की पहली आधिकारिक वेबसाईट मुख्यमंत्री कार्यालय की आधिकारिक वेबसाइट  (www.cmo.cg.gov.in) का लोकार्पण किया। डॉ. सिंह ने समारोह को सम्बोधित करते हुए इस आशय के विचार व्यक्त किए।

1741_A
उन्होंने इस अवसर पर जनता के नाम अपना पहला टिवटर संदेश भी जारी किया। उन्होंने ट्वीट करते हुए प्रदेश के सभी नागरिकों का अभिनंदन किया और कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय की वेबसाईट का शुभारंभ करते हुए मुझे काफी खुशी हो रही है। मुख्यमंत्री का टिवटर संदेश जारी होने के सिर्फ आधे घण्टे के भीतर इसे ‘लाइक’ करने वालों की संख्या 1900 तक पहुंच गयी। डॉ. सिंह ने समारोह में ऐलान किया कि राज्य शासन के काम-काज के सुचारू संचालन के लिए मुख्यमंत्री, उनके कार्यालय तथा मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक, सभी विभागों के सचिव स्तर के वरिष्ठ अधिकारी तथा सभी जिलों के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक बहुत जल्द तीन अलग-अलग वाट्सअप समूह बनाकर परस्पर जुड़ जाएंगे, ताकि उनके बीच सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान आसानी से हो सके।
डॉ. रमन सिंह के मुख्य आतिथ्य में इस अवसर पर ‘शासकीय योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन में सोशल मीडिया की उपयोगिता’ विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला भी आयोजित की गयी। कार्यशाला में राज्य शासन के विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों सहित उन कर्मचारियों ने भी हिस्सा लिया जो, अपने-अपने दतरों में सरकारी काम-काज में कम्प्यूटर और इन्टरनेट का उपयोग करते हैं। स्थानीय नवीन विश्राम भवन के सभाकक्ष में इस कार्यक्रम का आयोजन जनसम्पर्क विभाग और छत्तीसगढ़ इंफोटेक एवं बायोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।
लोकार्पण समारोह और कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा- एक समय था जब केवल प्रिन्ट मीडिया ही अभिव्यक्ति का और सूचनाओं का इकलौता जरिया था। सूचना-प्रौद्योगिकी के इस दौर में इलेक्ट्रानिक मीडिया और सोशल मीडिया भी इसमें शामिल हो गए हैं। उन्होंने कहा- परम्परागत मीडिया का महत्व कभी खत्म नहीं होगा, लेकिन सोशल मीडिया के विभिन्न औजार भी आज जनता के लिए काफी उपयोगी साबित हो रहे है और ये किसी चमत्कार से कम नहीं है। इनका उपयोग करके आम नागरिक भी अपना संदेश तत्काल एक दूसरे तक पहुंचा सकते हैं। परम्परागत मीडिया यानी अखबार और टेलीविजन चैनलों में खबरों के लिए स्पेस की कमी होती है। समाचारों का सम्पादन करके उन्हें प्रकाशित या प्रसारित किया जाता है, लेकिन सोशल मीडिया में अभिव्यक्ति के लिए स्पेस की कोई कमी नहीं है और कोई सीमा नहीं है। यह असीमित है। सबसे बड़ी बात यह है कि सोशल मीडिया में कोई सम्पादक नहीं है, जो आपकी मनचाही बातों को सम्पादित करे या रोक दे। सोशल मीडिया का उपयोगकर्ता ही स्वयं सम्पादक है। सोशल मीडिया आज के युग का चमत्कार है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके कार्यालय की आज शुरू हुई यह वेबसाईट प्रदेश के सभी नागरिकों के लिए उपयोगी होगी। प्रदेश सरकार और जनता के बीच बेहतर संवाद और शासकीय विभागों के मध्यम बेहतर तालमेल के लिए सोशल मीडिया का उपयोग किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी सांसदों, विधायकों, जनपद और जिला पंचायत के सदस्यों सहित ग्राम पंचायत के पंच स्तर तक के जनप्रतिनिधियों को सोशल मीडिया के जरिए सीधे जानकारी भेजना चाहते हैं। पूरा देश उनसे जुड़ रहा है। इसी क्रम में छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार ने आम जनता की सुविधा के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय की आधिकारिक वेबसाईट तैयार की है, जिससे जनता सीधे अपनी सरकार से जुड़ सके।प्रदेश के नागरिक शासन की योजनाओं और कार्यक्रमों के बारे में अपने विचार और सुझाव भी सरकार तक पहंुचा सकेंगे। लोगों को शासकीय कार्यक्रमों और योजनाओं की जानकारी के लिए एक अच्छा मंच मिलेगा। कार्यशाला के आयोजन की प्रशंसा करते हुए मुख्यमंत्री ने इसके लिए जनसम्पर्क विभाग और छत्तीसगढ़ इंफोटेक एवं बायोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) को बधाई दी। डॉ. रमन सिंह ने उम्मीद जतायी कि इस कार्यशाला के निष्कर्ष हमारे लिए उपयोगी होंगे।

वाट्सअप का भी हम करेंगे इस्तेमाल: डॉ. रमन सिंह 

1741_B

वेबसाईट लोकार्पण समारोह और कार्यशाला में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि राज्य शासन के विभिन्न विभागों के काम-काज के सुचारू संचालन तथा मंत्रालय और जिला स्तर पर शासन-प्रशासन में लगातार संवाद और समन्वय बनाए रखने के लिए सोशल मीडिया के महत्वपूर्ण औजार वाट्सअप का भी इस्तेमाल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए तीन वाट्सअप समूह बनाए जाएंगे। पहले समूह मेें मुख्यमंत्री और उनके कार्यालय, मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक और सभी 27 जिलों के कलेक्टर शामिल रहेंगे। दूसरे समूह में मुख्यमंत्री और उनके कार्यालय, मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक और सभी 27 जिलों के पुलिस अधीक्षक शामिल होंगे और तीसरा समूह मुख्यमंत्री तथा उनके कार्यालय और शासन के विभिन्न विभागों के सचिव स्तर के वरिष्ठ अधिकारियों का होगा। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड, मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री शिवराज सिंह, नया रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष और अपर मुख्य सचिव श्री एन. बैजेन्द्र कुमार, कृषि विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री अजय सिंह, जनसम्पर्क विभाग के प्रमुख सचिव श्री अमिताभ जैन, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग तथा मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अमन कुमार सिंह, भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम) रायपुर के निदेशक श्री बी.एस. सहाय, महिला एवं बाल विकास तथा खेल विभाग के सचिव श्री दिनेश श्रीवास्तव, संचालक जनसम्पर्क श्री रजत कुमार, चिप्स के उपाध्यक्ष श्री ए.एम. परियल और मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सौरभ कुमार, सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड ने कहा कि छत्तीसगढ़ सूचना प्रौद्योगिकी के माध्यम से सार्वजनिक वितरण प्रणाली में पारदर्शिता सुनिश्चित करने वाला देश का पहला राज्य है, जिसकी तारीफ सर्वोच्च न्यायालय ने भी की है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2004 से ही राज्य शासन द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी और सोशल मीडिया का उपयोग किया जा रहा है। धीरे-धीरे इस माध्यम का उपयोग बढ़ता जा रहा है। अपर मुख्य सचिव श्री एन.बैजेन्द्र कुमार ने कहा कि सोशल मीडिया बड़ी ताकत है, इसका उपयोग जनता के हित में करने के प्रयास राज्य शासन द्वारा किए जा रहे हैं। जनसंपर्क विभाग के प्रमुख सचिव श्री अमिताभ जैन ने कहा कि सोशल मीडिया आज सरकार और आम जनता के सशक्तिकरण के साथ-साथ शासकीय कर्मचारियों के सशक्तिकरण का माध्यम बन रहा है। इसके उपयोग से सरकारी कर्मचारी अपनी क्षमता और दक्षता बढ़ाकर शासकीय योजनाओं को जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाने में प्रभावी भूमिका निभा सकते हैं। सूचना प्रौद्योगिकी विभाग और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अमन कुमार सिंह ने कार्यशाला में बताया कि मुख्यमंत्री कार्यालय की वेबसाइट में मुख्यमंत्री से जुड़ी जानकारियां, राज्य शासन और प्रशासन की विभिन्न गतिविधियों, शासकीय बैठकों और कार्यक्रमों जानकारी, फोटोग्राफ और वीडियो क्लिपिंग उपलब्ध होंगी। इस वेबसाइट के माध्यम से लोग अपने सुझाव और समस्याएं भी शासन तक पहंुचा सकेंगे। यह वेबसाइट लोगों के साथ द्विपक्षीय संवाद के जीवंत माध्यम के रूप में काम करेगी। जनसम्पर्क विभाग के संचालक श्री रजत कुमार ने स्वागत भाषण दिया। आभार प्रदर्शन चिप्स के उपाध्यक्ष श्री ए.के. परियल ने किया। कार्यशाला में भारतीय प्रबंध संस्थान (आई.आई.एम) के निदेशक श्री बी.एस. सहाय, नई दिल्ली के श्री विकास बागरी और मुम्बई के श्री अभिषेक वर्मा ने अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने शासकीय योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन में सोशल मीडिया की उपयोगिता विषय पर प्रतिभागियों को मार्गदर्शन दिया।

Short URL: http://newsexpres.com/?p=1171

Posted by on Sep 7 2014. Filed under छत्तीसगढ, पॉजिटिव स्टोरी. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

Leave a Reply

Photo Gallery

Log in | Designed by R.S.Shekhawat