कच्ची बिरयानी

मुगलई बहार –हिन्दुस्तानी पाक कला का विकास ‘अवध ‘में सबसे आधिक हुआ है अवधी रसोई का अपना एक अनोखा अकेला गुण है जिसके अंतर्गत मुहँ में घुलने वाले कबाब, दम पर पकाए गए खुशबुदार व्यंजन, तरह तरह कि बिरयानी आदि आते है और जब इन्हें मुगलई अंदाज में परोसा जाए तो इनका मजा ही दुगना हो जाता है………….ऐसे ही कुछ लज्जतदार व्यंजनों का लुफ्त उठाएँ

कच्ची बिरयानी

सामग्री

1. बासमती –आधा किलो
2. मटन -750ग्राम दो इंच के टुकडो में कटा हुआ
3. अदरक –लहसुन का पेस्ट –एक टेबलस्पून
4. प्याज –पांच बारीक़ कटे और सुनहरे कुरकुरे किये हुए
5. लाल मिर्च पाउडर –दो टेबलस्पून
6. हल्दी –एक टीस्पून
7. कच्चा पपीता –दो टुकड़े दो इंच के पेस्ट किये हुए
8. दही –डेढ़ कप फेंटा हुआ
9. केसर –तीन चार धागे दूध में भीगे हुए

मसाला पाउडर बनाने के लिए

1. दालचीनी –चार टुकड़े
2. हरी इलाइची –छह
3. लौग –छह
4. बड़ी इलाइची –दो
5. तेज पत्ता –दो
6. काली मिर्च –एक टीस्पून
7. जीरा –एक टीस्पून

चावल के साबुत मसाले

1. दालचीनी –दो टुकड़े
2. हरी इलाइची –दो
3. बड़ी इलाइची –एक
4. लौंग –तीन
5. तेल –पांच टेबल स्पून
6. कटा पुदीना –दो टेबल स्पून
7. नमक –स्वादनुसार
विधि
• चावल को धोकर आधे घंटे के लिए भिगो कर रखदें
• मटन में फेटा दही, अदरक लहसुन का पेस्ट, पपीते का पेस्ट, मिर्ची पाउडर, हल्दी, मसाला पाउडर ,नमक था कुरकुरे प्याज मिलाये और तीन घंटे के लिए मेरिनेट करने के लिए रख दें
• पानी को गर्म करे (चावल से ढाई गुना अधिक पानी )
• जब पानी उबलने लगे तब साबुत मसाले, चावल और नमक डालें
• चावल को तीन चौथाई पकने तक पकाएं
• फिर पानी छान कर अलग रख दें
• अब घी गर्म कर के अलग रख दें
• अब भरी तली कड़ाही लें और उसमे मेरिनेट किया हुआ मटन और घी दाल दें
• ऊपर से पुदीना,धनिया, तले प्याज और हरी मिर्च डाल दें
• अब इसके ऊपर चावल डाल ककर फैला दें बाकि बचा घी और केसर वाला दूध छिडक दें
• अब ढक्कन लगाकर गुंधे आते से कड़ाही को सिल कर दें
• फिर इसे तेज आंच पर 20-25 मिनट तक पकाएं
• अब धीमी आंच कर के 45मिनट तक और पकाएं
• लीजिए बिरयानी तैयार है गर्म गर्म सर्व करे

Short URL: http://newsexpres.com/?p=76

Posted by on Jan 10 2011. Filed under खान-पान. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

Leave a Reply

Photo Gallery

Log in | Designed by R.S.Shekhawat